भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुदित नया साल / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओस भीगी धरा

किरनों के पाँव

उतरा है सूरज

अपने इस गाँव ।

पत्तों से छनकर

आई है धूप

निखरा है प्यारा

धरती का रूप ।

शरमाती कलियाँ

मुस्काते फूल

बाट में बिछाए

घास के दुकूल ।

तरुवर पर पाखी

देते हैं ताल

द्वार पर खड़ा है

मुदित नया साल ।