भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुद्दत के बाद आज किया जूँ अदा सूँ बात / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुद्दत के बाद आज किया जूँ अदा सूँ बात
खिलने सूँ उस लबाँ के हुआ हल्‍ल-ए-मुश्किलात

देखे सूँ आज मुझ पे शबाँ रोज नेक है
वो ज़ुल्‍फ़-ओ-मुख कि जिस सूँ इबारत है दिन-ओ रात

मीठी तिरी यो बात अहे नित नबात रेज़
गोया रखे हैं लब में तिरे माया-ए-नबात

ज़ुल्‍मात सूँ निकल के जहाँ में अयाँ अछे
गर हुक्‍म लेवे लब सूँ तिरे चश्‍मा-ए-हयात

तुझ नाज़ होर अदा सूँ मिरी ये है अर्ज़ ग़र्ज़
या ऐन-ए-इल्तिफ़ात हो या हुक्‍म-ए-इल्तिफ़ात

तब सूँ उठा है दिल सूँ मिरे ग़ैर का ख़याल
तेरा ख़याल जब सूँ हुआ है मिरे संगात

उस वक्‍त़ मुझको ऐश-ए-दो आलम मिले 'वली'
जिस वक्‍त़ बेहिजाब करूँ प्‍यू संगात बात