भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुन्ना-मुन्नी / द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुन्ना-मुन्नी ओढ़े चुन्नी, गुड़िया खूब सजाई
किस गुड्डे के साथ हुई तय इसी आज सगाई

मुन्ना-मुन्नी ओढ़े चुन्नी, कौन खुशी की बात है,
आज तुम्हारी गुड़िया प्यारी की क्या चढ़ी बरात है!

मुन्ना-मुन्नी ओढ़े चुन्नी, गुड़िया गले लगाए,
आँखों से यों आँसू ये क्यों रह-रह बह-बह जाए!

मुन्ना-मुन्नी ओढ़े चुन्नी, क्यों ऐसा यह हाल है,
आज तुम्हारी गुड़िया प्यारी जाती क्या ससुराल है!