भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुन्ना सीख रहा है / चंद्रसेन विराट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुन्ना चलना सीख रहा है।

छोटे-छोटे पैर सुहाने।
चलने से अब तक अनजाने।
रहे रेंगते घुटनों पर ही,
धीरे-धीरे हुए सयाने।
मुन्ना अब गाड़ी के बल पर,
कदम बदलना सीख रहा है।

मात-पिता ने देखा था कल,
मुन्ना खड़ा हुआ अपने बल।
डग-मग हुआ, हाथ फैलाकर,
थाम लिया था माँ का आँचल।
लाँघ देहरी अब आँगन में,
रोज निकलना सीख रहा है।

मुन्ने को चलना क्या आया,
घर-भर में तूफान उठाया।
खोली अलमारी, सब चीजें,
तोड़-तोड़कर किया सफाया।
शाम हुई तो पापा के संग,
तेज टहलना सीख रहा है।