भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुफ़लिसी सब बहार खोती है / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुफ़लिसी सब बहार खोती है
मर्द का ऎतबार खोती है

क्योंके हासिल हो मुझको जमईय्यत*---------सुकून, क़रार
ज़ुल्फ़ तेरी क़रार खोती है

हर सहर* शोख़ की निगह की शराब---------सुबह, सवेरे
मुझ अंखाँ का ख़ुमार खोती है

क्योंके मिलना सनम का तर्क* करूँ---------छोड़ना
दिलबरी इख़्तियार खोती है

ऎ वली आब* उस परीरू* की---चमक, परी जैसे मुखड़े वाली
मुझ सिने का ग़ुबार खोती है