भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुमकिन नहीं अब राज़ रहे राज़े-महब्बत / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुमकिन नहीं अब राज़ रहे राज़े-महब्बत
अब ज़ब्ते-महब्बत भी है गम्माज़े-महब्बत

उस शोख़ को भी आ गये अंदाज़े-महब्बत
ऐजाज़े-महब्बत है ये ऐजाज़े-महब्बत

ऐजाज़-दर-ऐजाज़ है ऐजाज़े-महब्बत
बे बाल-ओ-परी पर भी ये परवाज़े-महब्बत

क्या पूछते हो रिफ़अते-परवाज़े-महब्बत
ता औजे-सुरैया है तग-ओ-ताज़े-महब्बत

मक़सूदे तग-ओ-ताज़े-महब्बत है तगो-ताज़
मंज़िल नहीं मकसूदे-तगो-ताज़े-महब्बत

बा यूरिशे आलामो ब-नासाज़िए अय्याम
आईना-ए-अय्याम है आगाज़े-महब्बत

आगाज़े-महब्बत की कहानी है बस इतनी
आंखें लड़ी और हो गया आग़ाज़े-महब्बत

आ बस्ता है दिल में कोई ना-दीदा परी रू
हो जाता है यूँ भी कभी आग़ाज़े-महब्बत

नादान न बन उहदा-बर-आ हो न सकेगा
उस नाज़े-मुजस्सम से 'वफ़ा' नाज़े-महब्बत।