भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुश्ताक़ है उश्शाक़ तेरी बाँकी अदा के / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुश्‍ताक़ है उश्‍शाक़ तेरी बाँकी अदा के
ज़ख़्मी है महबाँ तेरी शमशीर-ए-जफ़ा के

हर पेच में चीरे के तिरे लिपटे हैं आशिक़
आलम के दिलाँ बंद हैं तुझ बंद-ए-क़बा के

लरज़ाँ हैं तिरे दस्‍त अगे पंजा-ए-ख़ुर्शीद
तुझ हुस्‍न अगे मात मलायक हैं समा के

तुझ ज़ुल्‍फ़ के हल्‍के में है दिल बंद 'वली' का
टुक मेहर करो हाल उपर बे सर-ओ-पा के

तनहा न 'वली' जग मिनीं लिखता है तिरे वस्‍फ़
दफ़्तर लिखा आलम ने तिरी मदह-ओ-सना के