भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुहब्बत हॊ फ़ना के बाद भी बररूयेकार आई / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मुहब्बत ही फ़ना ने बाद भी बररूयेकार आई।
न मुझको दीन रास आया, न दुनिया साज़गार आई॥

अँधेरा हो गया, दिल बुझ गया, सूनी हुई दुनिया।
बडी़ वीरानियों के बाद शामे-इन्तज़ार आई॥

न आई पायेइस्तग़ना में इक हल्की-सी लग़ज़िश भी।
म्रेरे रस्ते में ठोकर बन के, दुनिया बार-बार आई॥