भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मूँछे / भैरूंलाल गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वाह-वाह ये काली मूँछें,
लगती बड़ी निराली मूँछें।

किसी-किसी की इंच-इंच भर,
कुछ ने गज भर पाली मूँछें।

कुछ लोगों के तो सचमुच की,
पर जोकर की जाली मूँछें।

बड़ी मूँछ से सब डरते हैं,
ज्यों बंदूक दुनाली मूँछें।

कुछ कहते यह तो झंझट है,
इसीलिए मुँडवा ली मूँछें।

कोई कहता शान मर्द की,
इसीलिए रखवा ली मूँछें।

जिसको जैसी भाई, उसने
उसी रूप में पाली मूँछें!

-साभार: नंदन, जून 89, 30