भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मूक आवाजें / राजेन्द्र देथा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मूक आवाजें
कितनी सुरीली होती है
यह मैंने
इन्हीं
दिनों सीखा है
तुमसे
फिर हाथोहाथ भेज दिया छपनेt इसे
"दुनिया के सबसे बड़े विरोधाभास के रूप में!