भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मूठ अचूक / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं तो आ ई सुणी
बावड़िया करै जोबन
दो पाछै
पण
थारै कनै तो
एक ई राग-
म्हारी कड़ दूखै

फाक्यां में लेवण खातर
म्हैं गूंथूं जाळ
पण तूं कद पजै

नट विद्या रो जाणकार
नाड़ हिला र
मारै मूठ अचूक-
धोळा आयग्या
बावळी बातां करो !

केशव !
बिन बाबा सुण्या ई
म्हैं मारां मन !