भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मृत्यु / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक दिन नश्वरता का होगा
भीगी पलकों
रुंधे कंठ और
हृदय में हाहाकार का होगा
शेष सबका होगा
बस तुम्हारा न होगा
वह एक दिन