भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेदुसा / गब्रियेला गुतीयरेज वायमुह्स / दुष्यन्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसके बाल घुँघराले थे
और सवाल अनन्त
केवल उसके सामान्य पहाड़ी बाल ही नहीं
बल्कि तमाम बाल

उसकी मूँछ अच्छी थीं
जंगली सी आखों के साथ
साँस और नज़र एक साथ
बोलते हुए एक लंम्बी पँक्ति
अपने कवच की, रेजर की, मोम की और चिमटी की

क्यों आख़िर हम हमेशा
अपने विकास को कई जगह जोड़ते हैं
उस औरत ने पूछा
अपनी आवाज़ मिलाते हुए
अपनी ही दूसरी आवाज़ से
केशरहित आवाज़
आवाज़ जो है बहुस्तरीय कार्बनों की
जाँ हैं शीत और जरूरतमंद

वह सोचती है कि
बाल
शरीर के विरामक हैं दरअसल।
वह छिड़कती है नीट
या अन्य कोई कीटनाशक
अपने विचारों पर।

धरती के हरे लॉन पर वह
घास काटने में मशगूल थी
क्या वह प्लास्टिक को कर रही थी ख़राब
और ज़हर को हटा रही थी ख़ुद को बेदख़ल करते हुए।

क्या वह वाकई धरती माता है!

अँग्रेज़ी से अनुवाद — दुष्यन्त