भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा-तुम्हारा / दुष्यन्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सांझा अपना इतिहास
सांझा अपना वर्तमान

तुम्हारे दुख में शामिल मेरा दुख
तुम्हारे सुख में शामिल मेरा सुख
जैसे मेरे सुख में शामिल तुम्हारा सुख
मेरे दुख में शामिल तुम्हारा दुख

यह धरती
यह आकाश
पानी
वन
जानवर
हवा

जितने तुम्हारे
उतने ही मेरे
सांझे सपने जैसा
जो आता है आंखों में

कभी तुम्हारी
कभी मेरी।
 

मूल राजस्थानी से अनुवाद- मदन गोपाल लढ़ा