भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा अस्तित्व / गुण्टूरु शेषेन्द्र शर्मा / टी० महादेव राव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चन्द्रमा अगर है
हाथों में तुम्हारे
तो महीने कहाँ जाएँगे?

मेरी किताब
तेरे हाथों में है तो
मैं और मेरा अस्तित्व भी
तो है
हाथों में तेरे।
 
मूल तेलुगु से अनुवाद : टी० महादेव राव