भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा काम / सुभाष मुखोपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: सुभाष मुखोपाध्याय  » मेरा काम

 
मैं चाहता हूँ
अपने पैरों खड़े हो सकें शब्द
अपनी निगाहें हो हर परछाई की
हर ठहरा हुआ चित्र
अपने पैरों चल सके,
एक कवि की तरह याद किया जाऊँ
मैं नहीं चाहता,
चाहता हूँ --
कंधे से कंधा मिलाकर
जीवन के अंतिम दिन तक
साथ चल सकूँ,
चाहता हूँ --
ट्रैक्टर के पास
अपनी क़लम रख कर कह सकूँ
कि अब छुट्टी हुई!
भाई, मुझे थोड़ी-सी आग दो।


मूल बंगला से अनुवाद : उत्पल बैनर्जी