भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा बाप मुझको ग़लत टोकता है / सूरज राय 'सूरज'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा बाप मुझको ग़लत टोंकता है।
जवानी में बेटा यही सोचता है॥

कहूँ आइना या कहूँ दोस्त उसको
हाँ! चेहरे की परतें वोही नोचता है॥

मेरे मुल्क़ का नौजवां अपनी ताक़त
कहाँ झोंकनी है कहाँ झोंकता है॥

ये है बादशाहों की महफ़िल जहाँ पे
अदब को ज़रे-बेअदब रोकता है॥

ज़माना उसे भी सिखाता है उड़ना
जो पंखों से अपने फ़लक पोंछता है॥

किसी झूठ से झूठ हारेगा कैसे
कि पानी को पानी कहीं सोखता है॥

मिलेगा भला कैसे भीतर का "सूरज"
अमावस में तू रौशनी खोजता है॥