भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मेरी धरती / पवन कुमार मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम जलती हो ,
जो धूप मै देता हूँ ।
तुम भीगती हो,
जो पानी मै उड़ेलता हूँ ।
तुम काँपती हो,
जो शीत मै फैलता हूँ ।
सब कुछ समेटती हो,
जो मै बिखेरता हूँ ।
तुम सहती हो
बिना किसी शिकायत के
मेरी धरती,
तुम रचती हो,
सृष्टि गढ़ती हो
और मै तुम्हारा आकाश
तुम्हे बाँहों में भरे हुए
चकित-सा देखता रहता हूँ
तुम हँसती हो
निश्छल हँसती जाती हो
हवाएँ महक जाती हैं
रुका समय चल पड़ता है
और ज़िन्दगी नए पड़ाव
तय करती है ।