भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मेरी निगाह में है मोजज़ात की दुनिया / इक़बाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



मेरी निगाह में है मोजज़ात[1]की दुनिया
मेरी निगाह में है हादिसात[2]की दुनिया

तख़ैयुलात[3] की दुनिया ग़रीब है लेकिन
ग़रीबतर है हयातो-मुमात [4] की दुनिया

अजब नहीं कि बदल दे तुझे निगाह तेरी
बुला रही है तुझे मुमकिनात[5] की दुनिया

शब्दार्थ
  1. चमत्कारों
  2. दुर्घटनाओं
  3. कल्पनाओं
  4. जीने-मरने
  5. संभावनाओं