भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी प्रिया आएगी / येव्गेनी येव्तुशेंको

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी प्रिया आएगी
बाँहें फैलाएगी
और उनमें लपेट लेगी मुझे
मेरी आशंकाओं को समझेगी
ध्यान से देखेगी मेरे परिवर्तनों को

काली कलूटी रातों के
बहते इस अँधेरे में
टैक्सी के दरवाज़े को
धमाके से बन्द करते हुए
बिना रुके
चढ़ेगी सीढ़ियाँ वह भागते हुए
खण्डहर होती उस ड्योढ़ी को पार करके
प्रेम और ख़ुशी से सुलगती हुई
वह दौड़ेगी छज्जे की सीढ़ियों पर

खटखटाएगी नहीं वह
मेरा सिर अपने हाथों में ले लेगी
और जब अपना ओवरकोट टिकाएगी कुर्सी पर
फ़र्श पर सरक जाएगा वह
एक नीले ढेर की शक्ल में