भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी बातें / पूनम तुषामड़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब-जब मैं बोलूंगी
मेरी बातें बज उठेंगी
तुम्हारे कानों में नगाड़े-सी
ज्यादा देर शायद
न कर पाओ तुम इसे बर्दाश्त
पर फिर भी मैं कहूंगी अपनी बात
हर बात...
क्योंकि
बात निकली है तो फिर
दूर तलक जाएगी
कई आवाजें और बुलंद होंगी मेरे साथ
जो दबी थीं कई सदियों से...!