भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी मज़लूमियत पर ख़ून पत्थर से निकलता है / मुनव्वर राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



मेरी मज़लूमियत पर ख़ून पत्थर से निकलता है
मगर दुनिया समझती है मेरे सर से निकलता है

ये सच है चारपाई साँप से महफ़ूज़[1]रखती है
मगर जब वक़्त आ जाए तो छप्पर से निकलता है

हमें बच्चों का मुस्तक़बिल[2]लिए फिरता है सड़कों पर
नहीं तो गर्मियों में कब कोई घर से निकलता है

शब्दार्थ
  1. सुरक्षित
  2. भविष्य