भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी मृत्यु / महेंद्रसिंह जाडेजा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी मृत्यु,
मेरी मृत्यु तो
स्फटिक जैसी है ।

बरसात को पुकारते
मोर की तरह
मेरी मृत्यु
मेरे जीवन को पुकारेगी ।

उसके तो रंगीन पंख हैं
तितली की तरह ।

मैंने जिये हुए समय के फूल पर
मेरी मृत्यु की तितली आकर बैठेगी ।

मूल गुजराती भाषा से अनुवाद : क्रान्ति