भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी शायरी / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: नाज़िम हिक़मत  » मेरी शायरी

चाँदी की काठी वाला घोड़ा नहीं है मेरे पास सवारी के लिए
नहीं है गुज़ारे के लिए कोई विरासत
ज़र न ज़मीन
कुल जमा शहद की एक हाण्डी है मेरे पास
आग की लपटों जैसे शहद की हाण्डी ।

मेरा शहद ही मेरा सब कुछ है
सभी किस्‍म के कीड़े-मकोड़ों से
हिफ़ाजत करता हूं मैं अपने ज़र-ज़मीन की
मेरा मतलब अपनी शहद की हाण्डी की ।
ज़रा ठहरो, बिरादर
मेरी हाण्डी में जब तक शहद है
टिम्‍बकटू से भी आएँगी
मधुमक्खियाँ उसके पास ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल