भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी साँस / रोज़ा आउसलेण्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे संजीदा सपनों में
रोती है ज़मीन
ख़ून के आँसू

पत्थर मुस्कुराते हैं
आँखों में मेरी

मनुष्यो ! आओ
अपने अनेक प्रश्नों के साथ
पास जाओ सुकरात के
मैं उत्तर देती हूँ :

अतीत ने कर दिया है बन्द मुझे
विरासत में पाया है
भविष्य को मैंने I

यही है अब
मेरी साँस II

मूल जर्मन भाषा से प्रतिभा उपाध्याय द्वारा अनूदित