भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे क़ाबू में न पहरों दिल-ए-नाशाद आया / दाग़ देहलवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मेरे क़ाबू में न पहरों दिल-ए-नाशाद आया
वो मेरा भूलने वाला जो मुझे याद आया

दी मुअज्जिन ने शब-ए-वस्ल अज़ान पिछली रात
हाए कम-बख्त के किस वक्त ख़ुदा याद आया

लीजिए सुनिए अब अफ़साना-ए- फुर्कत मुझ से
आप ने याद दिलाया तो मुझे याद आया

आप की महिफ़ल में सभी कुछ है मगर 'दाग़' नहीं
मुझ को वो ख़ाना-ख़राब आज बहोत याद आया