भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे देश का भविष्य / गुण्टूरु शेषेन्द्र शर्मा / टी० महादेव राव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सभाएँ हो रही हैं
झण्डे उड़ रहे हैं
पीड़ितों की कतारों में खड़ी
ज़िन्दगियाँ चल रही हैं।

मेरे देश का भविष्य
मज़दूर भेड़ों की तरह चर रहे हैं

समानता को
बदल दिया गया है
दोपहर के मैदानों में
पुराने स्वप्न की तरह


कवियों
और शब्दों को
दीमक लग चुकी है
इस देश में
ऋषिवर पड़े हुए हैं
पुस्तकें बनकर
ग्रन्थालयों में।
 
मूल तेलुगु से अनुवाद : टी० महादेव राव