भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे पास / निकोलस गियेन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

{{KKRachna

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: निकोलस गियेन  » मेरे पास

जब मैं ख़ुद को देखता हूँ और छूता हूँ ख़ुद को
मैं ह्वान
कुछ भी तो नहीं था जिसके पास कल

मैं ह्वान
जिसके पास सब कुछ है आज
आज सब-कुछ के साथ
मैं ख़ुद को देखता हूँ और छूता हूँ
और पूछता हूँ ख़ुद से —
ऐसा कैसे हुआ

मेरे पास, ज़रा देखो
मेरे पास अपनी ख़ुशी है
मेरे पास मेरा देश है
मैं मालिक हूँ अपने इस देश का
मैं मालिक हूँ उन सब चीज़ों का जो इस देश में हैं
ध्यान से देखो मैंने क्या किया है
क्या से क्या बना दिया है
आज मैं कह सकता हूँ — गन्ना
मैं कह सकता हूँ — पहाड़
शहर — कह सकता हूँ मैं
अपनी जुबान से कह सकता हूँ मैं —सेना
ये सब मेरे हैं
हमेशा के लिए अब ये सब तेरे हैं
हमारे हैं ये सब
सूर्य की यह दीप्ति
तारों का यह वैभव
फूलों की यह शान
अब हमारी है

मेरे पास, ज़रा देखो
मेरे पास अपनी ख़ुशी है
अपने किसान हैं, अपने मज़दूर
अपनी जनता है मेरे पास, अपने लोग हैं
कितना ख़ुश हूँ मैं
कि मैं अब बैंक में जा सकता हूँ
और कह सकता हूँ मैनेजर से
अंग्रेज़ी में "सर" नहीं
बल्कि अपनी भाषा में "कम्पानेरो" यानी साथी
जैसे कहते हैं हम स्पानी में

ज़रा देखो मुझे
काला होते हुए भी
मैं किसी डाँस-हाल में घुस सकता हूँ
किसी भी बार के दरवाज़े को खोल सकता हूँ
किसी भी होटल के गलीचे पर चल-फिर सकता हूँ
अब मुझ पर कोई चीख़ नहीं सकता कि जगह नहीं है मेरे लिए होटल में
कोई विशाल कमरा नहीं, लेकिन एक छोटा कमरा
एक नन्हा कमरा, फिर भी ले सकता हूँ मैं
आराम करने के लिए

ज़रा देखो, मेरे पास क्या है
अब कोई यहाँ देहाती पुलिस नहीं है
जो मुझे पकड़ ले और मुझे बन्द कर दे हवालात में
जो मुझे बेदख़ल कर दे मेरी ज़मीन से
और बीच सड़क मुझे पटक दे ज़मीन पर

मेरे पास क्या है
अपनी ज़मीन है मेरे पास
अपना समुद्र है
फ़ॉर्म हाऊस नहीं है मेरे पास
विलासी जीवन भी नहीं है
टेनिस नही खेलता हूँ मैं
अपनी शानदार नौका नहीं है
लेकिन एक तट से दूसरे तट तक
एक लहर से दूसरी लहर तक
विराट, नीला और आज़ाद
समुद्र है मेरे पास

क्या है मेरे पास
मैं पढ़ना सीख गया हूँ
लिखना सीख गया हूँ मैं
गिन सकता हूँ कुछ भी
अब मैं सोच सकता हूँ
और लगा सकता हूँ ठहाके
 
क्या कुछ नहीं है मेरे पास
नौकरी है
कमाई है
खाना है
जीवन है मेरे पास
कुछ भी देख सकता हूँ मैं
वह सब कुछ है मेरे पास
जो पहले भी होना चाहिए था।

अँग्रेज़ी भाषा से अनुवाद : अनिल जनविजय