भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मेरे होने से / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समझाते हैं वे
जनेऊ-तिलक होंगे अर्थयुक्त तभी
जब करूं नियमित त्रिकाल संध्या

फरमाते हैं वे
अजान-रमजान फलेंगे तभी
जब रहूं बन पांच वक्त का पक्का नमाजी

कहते हैं वे
कंधा-कड़ा-कच्छा-कृपाण-केश का है
            कोई अर्थ तभी
जब कंठ में रखूं गुरु-ग्रंथ साहब

सुनाते हैं वे
सेवा शब्द सार्थक तभी
जब लूं यीशू की शरण

जहरभरी कसीदाकारी वाले लबादे ओढ़े बिना
क्यों नहीं है कोई पहचान मेरी ?

मनु-पुत्र के नाते
जब-जब जुड़ना चाहता हूं तुमसे
क्यों धू-धू धधकने लगता है
     दावानल बन अविश्वास

मेरे होने के लिए
क्यों जरूरी है
उनके दिए तगमें टांके फिरना ?
ज्ञानियों !
इतना तो बताओ
मेरा होना क्यों नहीं है
मेरे होने से ?