भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेला / रतन सिंह ढिल्लों

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेले में बिकती थीं कस्सियाँ
खेतों में पड़ी
दरारों को भरने के लिए
खेतों की प्यास बुझाने के लिए
अवरोधो को हटाने के लिए ।
 
मेले में बिकती थीं
हार, हमेले और पायल
बैलों और घोड़ियों को सजाने के लिए ।
 
अब मेले में बिकती है
राजनीति
लोगों में दरार डालने के लिए
और उनको
अलग-अलग खेमों में बाँटने के लिए ।
 
मेले लगाने वाले
आग लगा रहे हैं
और
बैल और घोड़ियाँ सजाने वाले
बंदूकें सजा रहे हैं ।
 
मूल पंजाबी से अनुवाद : अर्जुन निराला