भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मेले के रंग / निशान्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कितने रंग बिखरे हैं
मेले में
लाल-गुलाबी, पीले-नीले
काले-गोरे
कच्चे-पक्के
कुछ चटक-भडकीले
कुछ फीके
जी करता है
देखते रहें
देखते रहें।