भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं, ह्वान नीग्रो / निकोलस गियेन / गिरधर राठी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: निकोलस गियेन  » मैं, ह्वान नीग्रो / निकोलस गियेन

जब मैं ख़ुद को देखता और छूता हूँ
मैं ह्वान — कल तक विपन्न,
और ह्वान — आज सर्वथा सम्पन्न
आज जिसे प्राप्त है सभी कुछ,
देखता चारों तरफ़, देखता-बूझता,
छूता हूँ ख़ुद को और करता आश्चर्य
कि कैसे हुआ यह सब ।

देखें, क्या-क्या है मेरे पास :
मुझे है सुख अपने देश में चलने का
स्वामी हूँ सब कुछ का जो है यहाँ
परखता क़रीब से वह सब
जो न था मेरे पास पहले
न हो पाता ।
मैं बोल सकता हूँ — ईख,
मैं बोल सकता हूँ — पर्वत,
मैं बोल सकता हूँ — नगर,
मैं बोल सकता हूँ — सेना,
सेना जो अब
हमेशा मेरी, तुम्हारी और मेरी,
और यह अद्भुत्त परिदृश्य
सूर्य-किरण, तारे, फूल इसमें ।

देखें, मेरे पास क्या-क्या है :
अब मैं जा सकता हूँ,
मैं, एक किसान, मज़दूर, एक अदना-सा आदमी,
अब मैं जा सकता हूँ
जब कभी चाहूँ
(यह एक मिसाल है —)
किसी भी बैंक में
और मैं कर सकता हूँ बात
मैनेजर से,
अँग्रेज़ी में नहीं,
’सर’ कहकर नहीं,
बल्कि सिर्फ़ ’साथी’, ’काम्पानीरो’ कहकर
जैसा हम कहते हैं अपनी स्पानी में।

देखें, क्या-क्या है मेरे पास :
कि अब कोई रोकता नहीं, नहीं रोक सकता,
क्योंकि मैं काला हूँ
किसी भी बार में या डाँस-हाल के द्वार पर ।
या किसी होटल में अब
चीख़ नहीं सकता कोई मुझे देख
कि कमरे नहीं हैं उपलब्ध,
छोटा-सा कमरा ही, बहुत बड़ा नहीं,
बस, इतना कमरा
कि मैं कर सकूँ आराम ।

देखें, क्या-क्या है मेरे पास :
अब नहीं कोई देहाती पुलिस
जो पकड़े और बन्द कर दे
मुझे हवालात में,
या मुझसे छीन ले मेरी ज़मीन,
और मुझे फेंक दे रस्ते के बीच ।

है ये कि है मेरी धरती, इसलिए समुद्र है मेरा,
नहीं ये ऊँचे आमोद-क्लब,
नहीं यहाँ शान भरा जीवन,
नहीं यहाँ टेनिस या नौका-विहार,
लेकिन समुद्र,
रेतीले तट से रेतीले तट तक,
लहर से लहर तक,
निस्सीम नीला प्रकाश्य जनतान्त्रिक :
अर्थात, सागर ।

मेरे पास है, ज़रा देखें :
कि सीख लिया मैंने पढ़ना,
गिनना,
मेरे पास है मैं सीख गया लिखना,
सोचना
और हँसना ।

अब मेरे पास है यह कि
है मेरे पास काम की जगह,
और आमदनी,
खाता हूँ जो
मैं कमाता हूँ ।

मेरे पास है, ज़रा देखें :
मेरे पास है, जो मेरा ही होना था।

अंग्रेज़ी भाषा से अनुवाद : गिरधर राठी