भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं अकेली नहीं हूँ / गब्रिऐला मिस्त्राल / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुनसान रात फैली है
पहाड़ों से समुद्र तक
पर मैं हूँ
जो तुम्हें दुलराती है
अकेली नहीं हूँ मैं

आकाश भी निर्जन है
चन्द्रमा से समुद्र तक
लेकिन मेरे मन में तुम बसे हो
मैं अकेली नहीं हूँ

यह दुनिया सुनसान है
सभी लोग उदास हैं
पर मैं तुम्हें गले लगाती हूँ
अकेली नहीं हूँ मैं

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय

अब अँग्रेज़ी में यही कविता पढ़ें

I Am Not Alone

The night, it is deserted
from the mountains to the sea.
But I, the one who rocks you,
I am not alone!

The sky, it is deserted
for the moon falls to the sea.
But I, the one who holds you,
I am not alone !

The world, it is deserted.
All flesh is sad you see.
But I, the one who hugs you,
I am not alone!

Gabriela Mistral