भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं अपनी आँखों में इस पृथ्वी को घुमाती हूँ / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काश मेरे पास वो पैर होते जिनसे चलकर
दूर चली जाती इस दुनिया से

मैं किसकी जुबान थी
जब जी रही थी
हर साँस जैसे अपव्यय

मैं आई और सीखी
जीने की तमीज़ — कैसे ? —

मेरी मनुष्यता इकट्ठी होती गई कविता में
शब्दों के खालीपन में
जो दर्पण की तरह चमकता था

किसकी जुबान थी मैं
— खुद के साथ — जब जी रही थी

कभी किसी माँ ने नहीं बचाया मुझे
इस दुनिया से ।