भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं अपने शहर लौट आया / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: सूखे होंठों की प्यास
»  मैं अपने शहर लौट आया

मैं अपने शहर लौट आया, बेदर्द है वह, मैं जानता हूँ
निर्मम, निर्दयी, क्रूर है वह, रग-रग उसकी पहचानता हूँ

तू अगर लौटा है वापिस, तो जल्दी फिर गले में ठेल
लेनिनग्राद नगर में जलती लालटेनों में भरा मछली-तेल

पहचान ज़रा जल्दी से तू, हैं घोर दिसम्बर के ये दिन
पीला ज़रदी रंग झलकाएँ, ये अपशगुनी तारकोल के टिन

पितेरबुर्ग, ऐ पितेरबुर्ग, मैं फ़िलहाल चाहता नहीं मरना
मेरे फ़ोन नम्बर की तुझे, फिर क्या ज़रूरत, क्या करना

पितेरबुर्ग, ओ पितेरबुर्ग, मेरे पास पते अभी बचे हैं कुछ
जहाँ मृतकों को आवाज़ मिलेगी औ’ बदलेगा उनका रुख

परछत्ती में रहता हूँ मैं, उस चोर-सीढ़ी के क़रीब वहाँ
कनपटी का मेरी माँस नोचती, बजती है तीखी घण्टी जहाँ

रात-रात भर रहता है मुझे, उन मेहमानों का इन्तज़ार
बेड़ी की तरह हिले है साँकल, मेरे दरवाजे की लगातार

रचनाकाल : दिसम्बर 1930