भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं आशिक़ी में तब सूँ अफ़साना हो रहा हूँ / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं आशिक़ी में तब सूँ अफ़साना हो रहा हूँ
तेरी निगह का जब सूँ दीवाना हो रहा हूँ

ऐ आशना करम सूँ यक बार आ दरस दे
तुझ बाज सब जहाँ सूँ बे-गाना हो रहा हूँ

बाताँ लगन की मत पूछ ऐ शम्मा-ए-बज़्म-ए-ख़ूबी
मुद्दत से तुझ झलक का परवाना हो रहा हूँ

शायद वो गंज-ए-ख़ूबी आवे किसी तरफ़ सूँ
इस वास्ते सरापा वीराना हो रहा हूँ

सौदा-ए-ज़ुल्फ़-ए-ख़ूबाँ रखता हूँ दिल में दाइम
ज़ंजीर-ए-आशिक़ी का दीवाना हो रहा हूँ

बर-जा है गर सुनूँ नईं नासेह तेरी नसीहत
मैं जाम-ए-इश्क़ पी कर मस्ताना हो रहा हूँ

किस सूँ ‘वली’ आपस का अहवाल जा कहूँ मैं
सर ता क़दम मैं ग़म सूँ ग़म-ख़ाना हो रहा हूँ