भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं ईश्वर हूँ / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं ईश्वर हूँ —
एक भी मित्र नहीं,
अकेला अपनी पवित्रता से घिरा
इस अन्तहीन संसार में।

नीचे, युवा-प्रेमी
मस्ती से घूम रहे हैं धरती पर —
परन्तु मैं ईश्वर हूँ —
नीचे नहीं उतर सकता।

वसन्त!
जीवन प्रेम है!
प्रेम ही तो जीवन है!

मनुष्य होना बेहतर है
ईश्वर से
और अकेला होने से।