भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मैं उसे प्यार करता था / प्रतिभा कटियार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं उसे प्यार करता था
इतना कि
दूर चला गया उससे
ताकि महसूस कर सकूँ
जुंबिश उसकी चाहत की
हर पल

मैं उसे ख़ुश देखना चाहता था
इतना कि
मैंने हटा लीं अपने नज़रें
उस पर से
ताकि नज़र न आ सके
एक भी आँसू

मैं पाना चाहता था सानिध्य
दूध और पानी जैसा
और मैंने
छुड़ा लिया दामन कि
ये ख़्वाब,
बचा ही रहे साबुत

मैं बहुत ज़ोर से हँसना चाहता था
इतनी तेज़ कि
मेरे भीतर का विषाद
घबराकर दम तोड़ दे
भीतर ही...

मैं बो देना चाहता था ख़ुशियों के बीज
समूची धरती पर
इसलिए उठा लिए हथियार
कि इनसे लड़ने को ही
आतुर हो उठें मुस्कुराहटें


मैं तुम्हें रोकना चाहता था
इसलिए मैंने जाने दिया तुम्हें
ताकि रोकने की उस चाहत को
रोके रह सकूँ सीने में
हमेशा...