भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं एक अजनबी हूँ ख़ासकर खुद के लिए / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुद की कीमत पर, मैं एक अजनबी के साथ रहती हूँ
और यदि मैं उछल पडूँ, तो वो गिर पड़ेगा मेरे भीतर से बाहर

मैं अपनी गर्दन के नीचे देखती हूँ
मेरे बालों की तरह हैं उसके बाल
उसके हाथ मेरे हाथों की तरह

मेरे हाथों की जड़ें, धरती के भीतर हैं
दर्द से कराहती धरती हूँ मैं, खुद में

जाने कितनी बार
अपना चकनाचूर ज़ेहन
मैंने छोड़ा है पत्थर के नीचे

मैं सोती हूँ ताकि वो आराम कर सके
मैं जागती हूँ ताकि वो जा सके
-- नींद से , क्या सीखना चाहिए मुझे ? --

खुद की कीमत पर , मैं एक अजनबी के साथ रहती हूँ
और यदि मैं उछल पडूँ , तो वो गिर पड़ेगा मेरे भीतर से बाहर ।