भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं एक आरामकुर्सी में बैठा हुआ था / तादेयुश रोज़ेविच

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं एक आरामकुर्सी में बैठा हुआ था
मैंने पढ़ना बंद कर दिया
अचानक मैंने सुना
अपने दिल को धड़कते हुए
यह इतना अप्रत्याशित था
जैसे कोई अजनबी मेरे भीतर घुस गया हो
और कसी हुई मुट्ठी से मुक्के मार रहा हो
कोई अपरिचित जीव बंद हो गया मेरे भीतर
उसकी चोटों में कुछ ऎसा अशोभनीय था
जिसका कोई रिश्ता नहीं था
मुझ से
मेरे निगूढ़ बुद्धि व्यापार से।

(1979)

अंग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल