भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं और तुम और वो / मोईन बेस्सिसो / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसके शब्दकोश में पेड़ों के लिए कोई शब्द नहीं था
और फूलों के लिए भी नहीं
उसके शब्दकोश में पँछी नहीं थे
जो कुछ भी उसे पता है, उसे सिखाया गया था ।
 
सबसे पहले पँछियों को मार डालना
तो उसने पँछियों को मार डाला
चान्द से नफ़रत करना
और चान्द से उसे नफ़रत हो गई
पत्थर का एक दिल बना लेना
और उसका दिल पत्थर का हो गया
और चीख़ते रहना : सब कुछ की जय हो !
सब कुछ का नाश हो !
ख़त्म कर दो सब को !

उसके शब्दकोश में पेड़ों के लिये कोई शब्द नहीं था
उसके शब्दकोश में नहीं थे
मैं और तुम
उसको मुझे मार डालना था
मुझे और तुम्हें ।
जो कुछ भी उसे पता है, उसे सिखाया गया था
उसको मुझे मार डालना है, मुझे और तुम्हें ।

जर्मन से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य