भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं और तू / बोधिसत्व

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे दूध में पानी
जैसे पानी में भाप
जैसे आँटे में नमक
जैसे नमक में आब
जैसे अगिन में आँच
जैसे आँच में ताप
वैसे तुम में मैं,
वैसे मुझ में तू ।