भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं और मेरी माँ / ममता जी० सागर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं
एकदम
अपनी माँ जैसी

छरहरा बदन
पतली उँगलियाँ
आँख के नीचे झाँई काले घेरे वाली वही

एक भारी दिल
फ़िक्र से भरा-भरा

दिमाग़ में इतने ख़याल
कि चैन से बैठने न दें कभी

और एक नेह भरी
मुस्कान सतह पर

मै
एकदम
अपनी माँ जैसी हूँ

उसके आँसू
मेरी आँख से बहते हैं

अनुवाद : राजेन्द्र शर्मा