भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं कह दूँगी तुमसे / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बीन-छान कर
जाने कितनी बार
धूप में सुखा दिये हैं।
फिर भी गीले रह जाते हैं
यहाँ वहाँ से
शायद अब भी कच्चे हैं ये।
एक बार और
फिर से
उलट पलट लूँ शब्दों को
जो एक दिन
मैं कह दूँगी तुमसे