भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं गया था / कंस्तांतिन कवाफ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोका नहीं था मैंने अपने को ।
छोड़ दिया था बिल्कुल छुट्टा ख़ुद को
और गया था ।

भोगविलास ओर जो थे आधे असली -
आधे थे भटकते मेरे भेजे में,
मैं गया था आलोकित रात में;

और गटक ली थी तेज़ शराब हलक में,
ऐसे जैसे
पीते हैं विलासिता के मरदाने ।
 
अँग्रेज़ी से अनुवाद : पीयूष दईया