भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं चली पिया पेकड़े / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मैं चली पिया पेकड़े
तुसी मगरे ही आ जाइओ

मैं ता मिलांगी उत्थे बेबे जी नू
तुसी बापू जी नु मिल आइओ

मगरों करयोजी तुसी पेरीपैणा
पहलां लै जाणा सुणा आइयो

मैं कहूँगी जी मैं नहीं जाना
किते छड्ड के ना जाइओ

थोड़ा बहुता उत्थे मैं रोऊँगी वी
तुसी ऐंवीं ना घबरा जाइओ