भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं जल रहा हूँ / महेंद्रसिंह जाडेजा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे बुझाओ
मै जल रहा हूँ ।

मेरा रोम-रोम जल रहा है ।
मुझे मेरी हड्डी,चमड़ी,मांस,
खून की गंध आ रही है ।

मुझे बुझाओ।

समय के जंगल में
लग गई है आग
और चारों तरफ़ है अंधेरा,
और चारों तरफ़ है धुआँ,
और चारों तरफ़ है
हाहाकार की प्रतिध्वनि ।

मुझे बुझाओ
मैं जल रहा हूँ....


मूल गुजराती भाषा से अनुवाद : क्रान्ति