भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं तो चरण कमल पर वारी! / पन्ना दाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं तो चरण-कमल पर वारि!
बलिहारी जाऊँ अपने पिया के, तन मन धन से वारि।

कोई जाए गंगा जमुना, मैं या चरनन आऊँ।
साँझ-सवेरे चरण-धूलि का माथे तिलक लगाऊँ।।
शोभा जिसकी न्यारी। मैं तो चरण-कमल पर वारि!...

दोनों नैन बसे या चरनन, या चरनन बहु प्यारे।
जो नारी पति चरनन पूजे, वो बैकुण्ठ सिधारे।।
लाज रखे गिरधारी। मैं तो चरण-कमल पर वारि!...