भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं तो तेरे भजन भरोसे अबिनासी / मीराबाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं तो तेरे भजन भरोसे अबिनासी॥ मैतो०॥ध्रु०॥
तीरथ बरतते कछु नहीं कीनो। बन फिरे हैं उदासी॥ मैंतो० तेरे॥१॥
जंतर मंतर कछु नहीं जानूं। बेद पठो नहीं कासी॥ मैतो० तेरे॥२॥
मीराके प्रभु गिरिधर नागर। भई चरणकी दासी॥ मैतो० तेरे॥३॥