भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं दूर नहीं / ओरहान वेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं
दूर नहीं हूँ
तुमसे

तुम्हारी आँखें
देखना जानती हैं;
मैं हूँ तुम्हारी दृष्टि में

शायद तुमसे
ज़्यादा क़रीब हूँ तुम्हारे
मैं...
मैं हूँ
तुम्हारे हृदय की
हर धड़कन में।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सिद्धेश्वर सिंह